स्वायत्त संस्थाएं

Printer-friendly version

1. केंद्रीय विद्युत अनुसंधान संस्थान (सीपीआरआई) 

केंद्रीय विद्युत अनुसंधान संस्थान (सीपीआरआई) की स्थापना भारत सरकार द्वारा 1960 में की गई थी। विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार के तत्वावधान में वर्ष 1978 में स्वायत्त संस्था के रूप में इसका गठन किया गया था। संस्थान की स्थापना का मुख्य उद्देश्य विश्वसनीयता सुनिश्चित करने और नए उत्पादों में सुधार, नवाचार और विकास करने के लिए वैद्युत उपस्कर और घटकों के लिए स्वतंत्र राष्ट्रीय जांच और प्रमाणीकरण प्राधिकरण के रूप में कार्य करने के अतिरिक्त इलेक्ट्रिक पावर इंजीनियरिंग में अप्लाइड अनुसंधान अपनाने के लिए राष्ट्रीय प्रयोगशाला के रूप में कार्य करना था।

अधिक जानकारी के लिए कृपया साइट http://www.cpri.in  सर्फ करें।

 

2.  राष्ट्रीय विद्युत प्रशिक्षण प्रतिष्ठान (एनपीटीआई)

भारत में विद्युत क्षेत्र कार्मिक के मानव संसाधन विकास के लिए भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय विद्युत प्रशिक्षण प्रतिष्ठान (एनपीटीआई) की स्थापना राष्ट्रीय शीर्ष संस्था के रूप में कार्य करने के लिए की गई थी।

एनपीटीआई का मुख्यालय, एनपीटीआई कॉम्प्लैक्स, सेक्टर-33, फरीदाबाद (हरियाणा) में स्थित है। यह नेवली (तमिलनाडु), दुर्गापुर (पश्चिम बंगाल), बदरपुर (नई दिल्ली) और नागपुर (महाराष्ट्र) में स्थित अपने चार क्षेत्रीय विद्युत प्रशिक्षण संस्थानों के माध्यम से अखिल भारत आधार पर प्रचालन करता है। चार क्षेत्रीय विद्युत प्रशिक्षण संस्थानों सहित एनपीटीआई में आधुनिक स्टेट आफ आर्ट प्रशिक्षण अवसंरचना और लंबी अवधि के व्यावसायिक और शिक्षण पृष्ठभूमि वाला विशेषज्ञता कर्मचारी वर्ग है। ये संस्थान ताप और जल विद्युत उत्पादन, विद्युत प्रणाली और अन्य संबंधित क्षेत्रों में पावर इंजीनियरों, आपरेटरों और तकनीशियनों के लिए कई प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित कर रहे हैं। बदरपुर में स्थित प्रशिक्षण संस्थान में ऑफ जॉब/हैंड्स ऑन ड्रेनिंग प्रदान करने के लिए 210 मेगावाट फॉसिल ईंधन थर्मल पावर प्लांट का कम्प्यूटर आधारित फुल स्कोप प्रतिदर्श सिम्यूलेटर उपलब्ध है। 500 मेगावाट और 210 मेगावाट के दो और सिम्युलेटर क्रमशः एनपीटीआई मुख्यालय, फरीदाबाद और नागपुर संस्थान में चालू किए गए है। इसके अतिरिक्त, विद्युत क्षेत्र के उच्चतर विभागों के लिए एनपीटीआई, कॉम्प्लैक्स, एडवांस्ड लर्निंग एवं मैनेजमेंट स्टडीज इंस्टीट्यूट की स्थापना की जा रही है। इसके जल, ताप, विद्युत प्रणाली और मैनेजमेंट स्टडीज के विशेषज्ञता प्राप्त क्षेत्रों में विभाग होंगे। यह न केवल संपूर्ण विद्युत क्षेत्र क्रियाकलापों की डिजाइनिंग, कार्यान्वयन और पर्यवेक्षण के लिए विद्युत क्षेत्र प्रशिक्षण हेतु नोडल एजेंसी के रूप में कार्य करेगा बल्कि संस्थागत संस्कृति का सही प्रकार भी तैयार करेगा।

अधिक जानकारी के लिए कृपया साइट http://www.npti.in  सर्फ करें।