• 18,452 गावों (1st अप्रैल 2015 की स्थिति के अनुसार ) में से 13,511 गावों (19th मई 2017 की स्थिति के अनुसार) में बिजली पहुंचाई गई
  • पारम्परिक बिजली में 60 GW क्षमता की बढ़ोतरी
  • नाशा द्वारा हाल ही में जारी किया गया रात के समय का नक्शा भारत को बिलकुल नई रोशनी में दिखाता है (2016 के मुकाबले 2012)
  • वर्ल्ड बैंक के बिजली प्राप्त करने के सहूलियत सूचकांक पर भारत का क्रम जो 2015 में 99 था, उठकर 2014 में 26 वें स्थान पर आया
  • ट्रांसमीशन में आधारभूत परिवर्तन एक राष्ट्र , एक ग्रिड, एक मूल्य
  • लगभग 2.32 लाख करोड़ मूल्य के उदय बांड जारी किये गए जिससे ब्याज में 12,000 करोड़ की बचत
  • उजाला के अंतर्गत 23 करोड़ से ज्यादा एल.ई.डी बल्ब वितरित किये गए

विद्युत मंत्रालय के बारे में

विद्युत मंत्रालय ने दिनांक 2 जुलाई, 1992 से स्वतंत्र रूप से कार्य करना शुरू किया। इससे पूर्व इसे ऊर्जा स्रोत मंत्रालय के नाम से जाना जाता था। वि़द्युत भारत के संविधान की सातवीं अनुसूची की सूची-III में प्रविष्टि 38 पर दिया गया समवर्ती सूची का विषय है। विद्युत मंत्रालय प्रमुख रूप से देश में वैद्युत ऊर्जा के विकास के लिए उत्तरदायी है।

और देखें

नरेंद्र मोदी
भारत के प्रधानमंत्री

पीयूष गोयल

राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार)
विद्युत, कोयला, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा, खान